Uncategorized

बटन दबाये जादू देखे

वीडियो देखे 

 

 

Play

 

असल में, पांच हजार साल पहले, अर्जुन ने भी कृष्ण से यही सवाल पूछा था‘आपका यह कहना है कि हर चीज एक ही ऊर्जा से बनी है और हरेक चीज दैवी है, अगर वही देवत्व दुर्योधन में भी है, तो वह ऐसे काम क्यों कर रहा है?’ कृष्ण हंसे क्योंकि इतना उपदेश देने के बाद भी अर्जुन इस साधारण, बुनियादी और बचकाने सवाल पर अटका था। कृष्ण ने जवाब दिया, ‘ईश्वर निर्गुण है, दिव्यता निर्गुण है। उसका अपना कोई गुण नहीं है।’ इसका अर्थ है कि वह बस विशुद्ध ऊर्जा है। आप उससे कुछ भी बना सकते हैं। जो बाघ आपको खाने आता है, उसमें भी वही ऊर्जा है और कोई देवता, जो आकर आपको बचा सकता है, उसमें भी वही ऊर्जा है। बस वे अलग-अलग तरीकों से काम कर रहे हैं। जब आप अपनी कार चलाते हैं, तो क्या वह अच्छी या बुरी होती है? वह आपका जीवन बना सकती है या किसी भी पल आपका जीवन समाप्त कर सकती है, है न?

जादू

तो, क्या लोग काला जादू कर सकते हैं? बिल्कुल कर सकते हैं। अगर ऊर्जा का सकारात्मक इस्तेमाल है, तो नकारात्मक इस्तेमाल भी है। एक वेद, अथर्ववेद सिर्फ सकारात्मक और नकारात्मक चीजों के लिए ऊर्जाओं के इस्तेमाल को ही समर्पित है। मगर मैंने यह देखा है कि अक्सर ये चीजें मनोवैज्ञानिक या ज़हनी होती हैं। यह थोड़ी-बहुत मात्रा में हो सकती है, मगर बाकी यह होता है कि आपका अपना दिमाग आपको पागल बना रहा होता है। अगर मुझे आपको पागल करना है, तो मुझे आप पर कोई असली काला जादू करने की जरूरत नहीं है। कल सुबह जब आप अपने घर से निकलें और मान लीजिए, वहां एक खोपड़ी और थोड़ा खून पड़ा हो। तो उसे देखने के बाद ही आप बीमार हो जाएंगे, आपका कारोबार ठप होने लगेगा, सब कुछ नकारात्मक होने लगेगा क्योंकि एक तरह का भय आपको जकड़ लेता है। कोई काला जादू नहीं किया गया। बस कुछ संकेतात्मक चीजों की जरूरत है, जिनसे आपको लगेगा कि यह किसी किस्म का काला जादू है, और यह आपका दिमाग खराब कर देगा। इसलिए ज्यादातर बार यह सिर्फ मनोवैज्ञानिक होता है। चाहे आप पर काला जादू ही किया गया हो, मगर केवल दस फीसदी असली चीज होगी। बाकी आप खुद ही अपने आप को नुकसान पहुंचा रहे हैं। इसीलिए यह प्रतीकों के साथ आता है। ऐसा काला जादू करने वाले यह जानते हैं कि आप खुद पर ही मनोवैज्ञानिक ढंग से असर डाल सकते हैं।

आप रुद्राक्ष जैसे कुछ बचाव के साधन पहन सकते हैं, जो किसी

About the author

tsxBZnZaIb

Leave a Comment